बॉलीवुड सुपर स्टार अजय देवगन अपनी हर फिल्म को बेहद प्रोफेशनल तरीके से और पूरी मेहनत के साथ करते हैं। फिल्म में निभाए जाने वाले किरदार के लिए वह जरूरी तैयारी भी करते हैं। अजय देवगन फुटबॉल लीजेंड सैयद अब्दुल रहीम की बायोपिक में लीड रोल निभाने वाले हैं इसीलिए वह अब फुटबॉल की प्रैक्टिस करने वाले हैं, साथ ही हैदराबादी हिंदी भी सीखने वाले हैं।

सैयद अब्दुल रहीम की बायोपिक को बोनी कपूर प्रोड्यूस कर रहे हैं और इस फिल्म का निर्देशन फिल्म बधाई हो से तारीफें पा चुके डायरेक्टर अमित शर्मा करने वाले हैं। फिल्म में कोई कसर ना रह जाए इसके लिए वह भी अजय के साथ फुटबॉल के गुर सीखेंगे। अमित शर्मा का मानना है कि इस किरदार के लिए उन्हें और अजय को काफी मेहनत करनी होगी। वो कहते हैं कि वह इस बात पर यकीन करते हैं कि जब तक हम पानी में नहीं उतरते तब तक हमें तैरना नहीं आता है।

अमित शर्मा के मुताबिक फिल्म की शूटिंग जल्द ही शुरू करेंगे लेकिन इसके लिए कम से कम एक साल तक तैयारी होना भी जरूरी है। सैयद अब्दुल रहीम हैदराबाद के थे, इसीलिए इस फिल्म को रियल टच देने के लिए अजय देवगन, हैदराबादी हिंदी भी सीखेंगे। इस फिल्म में अजय देवगन के अपोजिट तेलगू और तमिल फिल्मों की सुपर स्टार कीर्ति सुरेश होंगी। कीर्ति ढेरों हिट फिल्मों में काम कर चुकी हैं, इस फिल्म से वह हिंदी में डेब्यू करेंगी।

इस बायोपिक फिल्म को रियल टच देने के लिए हॉलिवुड से स्‍पोर्ट्स कोरियोग्राफर बुलाया गये हैं। फुटबॉल के खिलाड़ियों से भी बात चल रही है ताकि वह एक्टर्स की स्‍पोर्ट्स स्‍किल्‍स को निखार सकें।

बताते चलें कि फुटबॉल कोच सैय्यद अब्दुल रहीम को भारतीय फुटबॉल के वास्तुकार के रूप में जाना जाता है। उनका करियर भारतीय फुटबॉल का सुनहरा वक्त माना जाता है। उनके मार्गदर्शन में ही भारतीय टीम ने 1962 में एशियन गेम्‍स में उस वक्‍त की मजबूत टीम साउथ अफ्रीका को हराकर गोल्‍ड मेडल जीता था। यह वही दौर था जब भारत को एशिया के ब्राजील के खिताब से नवाजा गया था। फ्रेंड्स इस फिल्म के बारे में आपकी क्या राय है, अपने कमेंट्स हमें कमेंट सेक्शन में जरूर बताएं साथ ही हमें लाइक और फॉलो करना न भूलें